Monday, 22 May 2017

विश्वास....

   अटकूं कहीं तो
    इशारा करता है तू ही
    भटकूं कहीं तो
     साथ देता है तू ही
     आकांक्षाएं , एक के बाद एक
      बढ़ती चली जाती
      पाने की लालसा में
     लगती हैं ठोकरें भी
    हर वक्त  ,ठोकर खाने के बाद
   हाथ थामता है तू ही
  कभी -कभी तो
   आकाश छूना होता है मुझे
   तब तू ही कहता है
  कोशिश कर , र कोशिश
   अनवरत.......
  न रोक पाएगा
  कोई तुझे
   आगे बढ़..
    तू जो दे सकता है
    वो कहाँ और कोई
    दे सकता
  . दिखाई देता नहीं
     पर रहता है साथ सदा
     मेरा विश्वास ....
   
         शुभा मेहता
        22May , 2017
  

36 comments:

  1. Ek bahut hi sundar rachna aur shabdon ko bahut hi baariki se piroya hai aeisi mala banane ka bhi vishwas chahiye jo baat teri kavita barbas vyakt krti hai aur mujhe bacchan ji ki kuch panktiyan yaad aa rhi hai aur unhi ko uddhrit kar main apni baat shesh krta hoon. Bacchan ji kahte hain ki " aasra upar ka mat dekh sahara niche ka mat maang yahi kya kam tujhko vardan ki tujhme bhari pralay ki aag " vishwas kbhi kbhi aag ka roop le protsahit krti hai toh kbhi nirmal sheetal jal ki bhanti bahkt hame kuch sochne ka bhi marg darshati h bahut bahut pyaar bas likhe jaa aur yashomati ho ☺☺☺☺☺☺☺💐💐💐💐💐

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" मंगलवार 23 मई 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत आभार यशोदा जी ।

      Delete
  3. आकाश छूना होता है मुझे
    तब तू ही कहता है
    कोशिश कर , कर कोशिश
    अनवरत.......
    न रोक पाएगा
    कोई तुझे
    आगे बढ़..
    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ। कमाल का वर्णन वाह ! आभार। "एकलव्य"

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद ध्रुव जी ।

      Delete
  4. लाजवाब.....
    बहुत ही सुन्दर....

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद सुधा जी ।

      Delete
  5. आकाश छूना होता है मुझे
    तब तू ही कहता है ..
    वाह!बहुत बढियाँ..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद ।

      Delete
  6. Replies
    1. आभार ,सुशील जी ।

      Delete
  7. Bhut acche keep posting keep visiting on www.kahanikikitab.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dhanyvad sarvesh ji .Aapka swagat hai mere channel per

      Delete
  8. वाह ! क्या बात है ! बहुत ही खूबसूरत रचना । बहुत खूब

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत -बहुत धन्यवाद राजेश जी ।

      Delete
  9. सटीक रचना

    ReplyDelete
  10. Nice article keep posting and keep visiting on www.kahanikikitab.com

    ReplyDelete
  11. इस विश्वास की लगाम सब कुछ करा जाती है ... कहीं से कहीं पहुंचा देती है ... बहुत गहरी भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर रचना..... आभार
    मेरे ब्लॉग की नई रचना पर आपके विचारों का इन्तजार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजू जी ।

      Delete
  13. bhut acche keep posting....................

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब, हार्दिक मंगलकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सतीश जी ।

      Delete
  15. बहुत सुन्दर कविता शुभा जी - और कितना सही चित्रित किया है आत्म विश्वास की महत्ता को सरल शब्दों में |

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय जी ।

      Delete
  16. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ओंकार जी ।

      Delete
  17. do you want publish book?
    visit us: www.bookbazooka.com

    ReplyDelete
  18. नाम वही, काम वही लेकिन हमारा पता बदल गया है। आदरणीय ब्लॉगर आपने अपने ब्लॉग पर iBlogger का सूची प्रदर्शक लगाया हुआ है कृपया उसे यहां दिए गये लिंक पर जाकर नया कोड लगा लें ताकि आप हमारे साथ जुड़ें रहे।
    इस लिंक पर जाएं :::::
    http://www.iblogger.prachidigital.in/p/best-hindi-poem-blogs.html

    ReplyDelete
  19. शुभ संध्या
    आभार..
    पर आप हैं कहाँ
    मई महिने के बाद आपकी एक भी फ्रविष्ठि नही
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. यशोदा जी ,इन दिनों कुछ व्यस्त हूँ ,पौत्र जन्म हुआ है घर में ,लोरियां गाने में लगी हूँ। बहुत धन्यवाद । शीध्र नई रचना के साथ मिलूँगी ।

      Delete
  20. सही कहा शुभा... इंसान का आत्मविश्वास ही हमेशा उसका साथ देता हैं। सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ज्योति ।

      Delete
  21. गहरी भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय। जी।

      Delete